इतिहास को हमारे प्रयत्नों का उल्लेख करना ही पड़ेगा

मई 20, 2009 को 4:45 पूर्वाह्न | Posted in अंतिम समय की बातें, आत्म-चरित, इतिहास में हमारे प्रयत्न, खण्ड-4, सरफ़रोशी की तमन्ना | 8 टिप्पणियाँ
टैग: , , , ,

ऐतिहासिक दृष्टि से हम लोगों के कार्य का बहुत बड़ा मूल्य है । जिस प्रकार भी हो, यह तो मानना ही पड़ेगा  कि इस  गिरी  हुई  अवस्था  में  भी, अधिकाँश भारतवासी युवकों के हृदय में स्वाधीन होने के भाव विराजमान हैं । वे यथा शक्ति स्वतंत्र होने की चेष्टा भी करते है । यदि परिस्थितियां अनुकूल होती तो यही इने गिने नवयुवक अपने चेष्टाओं से संसार को चकित कर देते । उस समय भारतवासियों को भी फ्रांसीसियों की भांति कहने का सौभाग्य प्राप्त होता, जो कि उस जाति के नवयुवकों ने फ्रांसीसी प्रजातंत्र की स्थापना करते हुए कहा था, “स्वाधीनता  का  जो  स्मारक  निर्माण  किया  गया  है  वह  अत्याचारियों के  लिये  शिक्षा  का  कार्य  करे  और  अत्याचार  पीड़ितों  के  लिये  उदाहरण  बने “

ग़ाज़ी  मुस्तफा कमालपाशा जिस  समय  तुर्की  से  भागे  थे, उस  समय  केवल  इक्कीस  युवक आपके साथ थे कोई साजोसामान न था, मौत का वांरट पीछे-पीछे घूम रहा था । पर समय ने ऐसा पलटा खाया कि उसी कमाल ने अपने कमाल से संसार को आश्चर्यान्वित कर दिया । वही कातिल कमालपाशा टर्की का भाग्य निर्माता बन गया । लेनिन को  एक दिन शराब  के  पीपों  में  छिप  कर  भागना पड़ा  था, नहीं  तो  मृत्यु में कुछ देर न थी । वही लेनिन रूस के भाग्य विधाता बने ।

श्री शिवाजी डाकू एवँ लुटेरे समझे जाते थे । पर समय आया जब कि हिन्दू जाति ने उन्हें अपना शिरमौर बना,गौ एवँ ब्राह्मण-रक्षक छत्रपति शिवाजी बना दिया । भारत सरकार को भी अपने स्वार्थ के लिये छत्रपति के स्मारक निर्माण कराने पड़े । क्लाइव एक उददण्ड  विद्यार्थी  था  ।  जो  अपने  जीवन  से निराश हो चुका था । समय के फेर ने उसी उददण्ड विद्यार्थी को अंग्रेज जाति का राज्य स्थापनाकर्ता लार्ड क्लाइव बना दिया । श्री सनयात सैन चीन के अराजकवादी पलायक भागे हुये थे । समय ने उसी पलायक को चीनी प्रजातन्त्र का सभापति बना दिया ।

सफलता  ही  हृदय  एवँ  मनुष्य  के  भाग्य  का  निर्माण करती  है । असफल  होने  पर  उसी  को  बर्बर, डाकू, अराजक, राज्यद्रोही तथा हत्यारे के नामों से विभूषित किया जाता है । सफलता  उन्हीं  सब  नामों  को  बदल  कर  दयालु, प्रजापालक, न्यायकारी, प्रजातन्त्रवादी  तथा  महात्मा  बना  देती  है ।

भारतवर्ष के इतिहास में हमारे प्रयत्नों का उल्लेख करना ही पड़ेगा । किन्तु इसमें भी कोई सन्देह नहीं है कि भारतवर्ष की राजनैतिक, धार्मिक  तथा  सामाजिक  किसी  प्रकार  की  परिस्थिति  इस  समय क्रान्तिकारी आन्दोलन के पक्ष में नहीं है । जिस का कारण यही है कि भारतवासियोंमें शिक्षा का अभाव है । वे साधारण सामाजिक उन्नति करने से भी असमर्थ है ।

फिर राजनैतिक क्रान्ति की बात कौन कहे ? राजनैतिक  क्रान्ति  के  लिये  सर्वप्रथम  क्रान्तिकारियों  का संगठन ऐसा होना चाहिये कि अनेक विध्न तथा बाधाओं के उपस्थित होने पर भी संगठन में किसी प्रकार की त्रुटि न आवे । सब कार्य यथावत चलते रहें । कार्यकर्ता इतने योग्य तथा पर्याप्त संख्या में होने चाहिये कि एक की अनुपस्थिति में दूसरा स्थान-पूर्ति के लिये सदा उद्यत रहे । भारतवर्ष में कई बार कितने षड़यन्त्रों का संगठन हुआ । किन्तु थोड़ा सा भेद खुलते ही, पूर्ण षडयन्त्र का भण्डा फूट गया और सब किया कराया ना्श को प्राप्त हो गया । जब क्रान्तिकारी दलों की यह अवस्था है तो फिर क्रान्ति के लिये उद्योग कौन करे ?

देशवासी इतने शिक्षित हों कि वे वर्तमान सरकार की नीति को समझ कर अपने हानि-लाभ को जानने में समर्थ हो सकें । वे यह भी पूर्णतया समझते हों कि वर्तमान सरकार को हटाना आवश्यक है या नहीं । साथ ही साथ उन में इतनी बुद्धि भी होनी चाहिये कि किस रीति से सरकार को हटाया जा सकता है ।

क्रान्तिकारी दल क्या है ? वह क्या करना चाहता है ? क्यों करना चाहता है ? इन सारी बातों को जनता अधिक संख्या में समझ सके, क्रान्तिकारियों के साथ जनता की पूर्ण सहानुभूति हो, तब कहीं क्रान्तिकारी दल को दे्श में पैर रखने का स्थान मिल सकता है । यह तो क्रान्तिकारी दल की स्थापना की प्रारम्भिक बातें है । रह गई, क्रान्ति, सो तो बहुत दूर की बात है ।

क्रान्ति  का  नाम  ही  बड़ा  भयंकर  है । प्रत्येक  प्रकार  की  क्रान्ति  विपक्षियों  को  भयभीत  कर  देती  है  जैसे  कि  जहां पर  रात्रि  होती  है  तो  दिन  का  आगमन  होने  से  निशिचरों  को  दुख  होता  है । ठंडे जलवायं में रहने वाले  पशुपक्षी  गरमी  के  आने  पर  उस  देश  को  भी  त्याग  देते  हैं । फिर  राजनैतिक  क्रान्ति  की  बात ही  बड़ी  भयावनी  होती  है ।

मनु्ष्य अभ्यासों का समूह है । अभ्यासों के अनुसार ही उस की प्रकृति भी बन जाती है । उस के विपरीत जिस समय कोई बाधा उपस्थित होती है, तो उनको भय प्रतीत होता है, इसके अतिरिक्त प्रत्येक सरकार के सहायक अमीर और जमीदार होते हैं । ये लोग कभी नहीं चाहते कि उन के  ऎशो-आराम में किसी प्रकार की बाधा पड़े । इसलिये वे हमेशा क्रान्तिकारी आन्दोलन को नष्ट करने का प्रयत्न करते हैं ।

यदि किसी प्रकार दूसरे दे्शों की सहायता लेकर समय पाकर क्रान्तिकारी दल क्रान्ति के उद्योग में सफल हो जावे, देश में क्रान्ति हो जावे, तो भी योग्य नेता न होने से अराजकता फैल कर व्यर्थ की नर हत्या होती है, और उस प्रयत्न में अनेकों सुयोग्य वीरों तथा विद्वानों का ना्श हो जाता है । जिसका ज्वलन्त उदाहरण सन 1857 ई0 का  गदर  है । यदि फ्रांस तथा अमेरिका की भांति क्रान्ति द्वारा राजतंत्र को पलट कर प्रजा तंत्र स्थापित भी कर लिया जावे तो बड़े-बड़े धनी पुरूष अपने धन-बल से सब प्रकारों के अधिकारों को दबा बैठते है । कार्यकारिणी समितियों में बड़े-बड़े अधिकार धनियों को प्राप्त हो जाते है ।

दे्श के शासन में धनिकों का मत ही उच्च आदर पाता है । धन-बल  से  देश  के  समाचार पत्रों, कल कारखानों तथा खानों पर उनका ही अधिकार होता है । मजबूरन जनता की अधिक संख्या धनियों का समर्थन करने का बाध्य हो जाती है । जो दिमाग वाले होते है, वह भी समय पाकर बुद्धिबल से जनता की खरी-कमाई से प्राप्त किये अधिकारों को हड़प बैठते है ।

स्वार्थ के वशीभूत जन श्रमजीवियों तथा कृषकों को उन्नति के अवसर नहीं देते । अन्त में ये लोग भी धनिकों के पक्षपाती हो कर राजतंत्र के स्थान में धनिक तंत्र की स्थापना करते है । रूसी क्रान्ति के पश्चात यही हुआ था। रूस के क्रान्तिकारी इस बात को पहले से ही जानते थे । अतएव उन्होंने राजसत्ता के विरूद्ध युद्ध कर के राजतंत्र की समाप्ति की । इसके बाद जैसे ही धनी तथा बुद्धिमानों ने अडंगा लगाना चाहा कि उसी समय उन से भी युद्ध कर के उन्होंने वास्तविक प्रजातंत्र की स्थापना की ।

अब विचारने की बात यह कि भारतवर्ष में क्रान्तिकारी आन्दोलन के समर्थक कौन से साधन मौजूद है ?

Advertisements

8 टिप्पणियाँ »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. “सफलता ही हृदय एवँ मनुष्य के भाग्य का निर्माण करती है । असफल होने पर उसी को बर्बर, डाकू, अराजक, राज्यद्रोही तथा हत्यारे के नामों से विभूषित किया जाता है ।”
    कटु यथार्थ छुपा है बिस्मिल की इन पंक्तियों में.

  2. परिस्थितिजनित एतिहासिक भूमिकाओं का निर्वाह ही सबसे महत्वपूर्ण है। इतिहास में नाम लिखा जाए या नहीं, यह चिंता कर्म करने वालों की राह नहीं रोका करती।

  3. सच ही कहा है – nothing succeeds like success.

    यदि किसी प्रकार दूसरे दे्शों की सहायता लेकर समय पाकर क्रान्तिकारी दल क्रान्ति के उद्योग में सफल हो जावे, देश में क्रान्ति हो जावे, तो भी योग्य नेता न होने से अराजकता फैल कर व्यर्थ की नर हत्या होती है, और उस प्रयत्न में अनेकों सुयोग्य वीरों तथा विद्वानों का ना्श हो जाता है। जिसका ज्वलन्त उदाहरण सन 1857 ई0 का गदर है। यदि फ्रांस तथा अमेरिका की भांति क्रान्ति द्वारा राजतंत्र को पलट कर प्रजा तंत्र स्थापित भी कर लिया जावे तो बड़े-बड़े धनी पुरूष अपने धन-बल से सब प्रकारों के अधिकारों को दबा बैठते है। कार्यकारिणी समितियों में बड़े-बड़े अधिकार धनियों को प्राप्त हो जाते है।”
    आश्चर्य होता है कि ऐसे विचारवान लोगों को फांसी चढ़ना पडा और 1857 और उसके पहले और बाद में भी देश के साथ दगा करने वाले राजवंशी आज भी मंत्री बनकर देश की संपदा लूट रहे हैं.

  4. […] अच्छा हुआ जो मैं गिरफतार हो गया और भागा नही 4 06 2009 अब विचारने की बात यह कि भारतवर्षमें क्… […]

  5. उन्होंने कितना सही आकलन किया था . आज के दिन को भी वे पहले ही देख चुके थे शायद . फिर भी उन्होंने बलिदान किया खुद को .

    नमन ! नमन ! नमन !

  6. […] परिभाषित न हो सका By डा. अमर कुमार शहीद की अगली कड़ी देनी है । साथ ही अपना भी कुछ लिखने का […]

  7. […] तरीका, न जाने क्यों परिभाषित न हो सका शहीद की अगली कड़ी देनी है । साथ ही अपना भी कुछ लिखने का […]

  8. […] डा. अमर कुमार शहीद की अगली कड़ी देनी है । साथ ही अपना भी कुछ लिखने का […]


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: