मेरा बाल्यकाल और कुमारावस्था

जनवरी 15, 2009 को 9:52 अपराह्न | Posted in आत्म-चरित, आत्मकथा, खण्ड-1 | 1 टिप्पणी
टैग: , , , , , , , , , , , , , , , , ,

अबतक आपने पढ़ा …

औ्षधि तीन प्रकार की होती है  1- दैविक, 2- मानुषिक, 3- पैशाचिक । पैशाचिक औषधियों में अनेक प्रकार के पशु या पक्षियों के मांस अथवा रूधिर का व्यवहार होता है, जिन का उपयोग वैद्यक के ग्रन्थों में पाया जाता है । इनमें से एक प्रयोग बड़ा ही कौतुहलोत्पादक तथा आश्चर्यजनक है  कि जिस बच्चे को जमोखे सूखा की बीमारी हो गई हो यदि उसके सामने चिमगादड़ को चीर कर के लाया जावे तो एक दो मास का बालक चिमगादड़ को पकड़ कर के उसका खून चूस लेगा और बीमारी जाती रहेगी । यह बड़ी उपयोगी औषधि है और एक महात्मा की बतलाई हुई है ।

अब आगे..

जब मैं सात वर्ष का हुआ तो पिताजी ने स्वयं ही मुझे हिन्दी अक्षरों का बोध कराया और एक मौलवी साहब के मकतब में उर्दू पढ़ने के लिये भेज दिया । मुझे भली-भाति स्मरण है कि पिता जी अखाड़े में कुश्ती लड़ने जाते थे और अपने से बलिष्ठ तथा शरीर में डेढ गुने पट्ठे को पटक देते थे । उसी के कुछ दिनों बाद पिताजी का एक बंगाली महाशय श्री चटर्जी से प्रेम हो गया । चटर्जी महाशय की अंग्रेजी दवा की दुकान थी । आप बड़े नशाबाज थे । एक समय में आध छटांक-एक छटांक चरस की चिलम उड़ाया करते थें उन्हीं की संगति में पिताजी ने भी चरस पीना सीख लिया । जिसके कारण उनका शरीर नितान्त नष्ट हो गया । दस वर्ष में ही सम्पूर्ण शरीर मानों सूख कर हड्डियां निकल आईं । चटर्जी महाशय सुरापान भी करने लगे । अतएव उनका कलेजा बढ़ गया और उसी से उन का शरीरांत हो गया । मेरे बहुत कुछ समझाने पर पिता जी ने अपनी चरस पीने की आदत को छोड़ा किन्तु बहुत दिनों के बाद ।

मेरे बाद पांच बहनों और तीन भाइयों का जन्म हुआ । दादी जी ने बहुत कहा कि कुल की प्रथा के अनुसार कन्याओं को मार डाला जावे किन्तु माता जी ने इस का विरोध किया  और कन्याओं के प्राणों की रक्षा की । मेरे कुल में यह पहला ही समय था कि कन्याओं का पोषण हुआ । पर इन में दो बहिनों और भाइयों का देहान्त हो गया । शेष एक भाई जो इस समय 1927 ई में दस वर्ष का है और तीन बहिनें बचीं । माता जी के प्रयत्न से तीनों बहिनों को अच्छी शिक्षा दी गई और उन के विवाह बड़ी धूमधाम से किये गयें इसके पूर्व हमारे कुल की कन्यायें किसी को नहीं व्याही गईं क्योकि वे जीवित ही नहीं रखी जाती थी ।

दादा जी बड़े सरल प्रकृति के मनुष्य थें । जब तक आप जीवित रहे पैसे बेचने का ही व्यवसाय करते रहे । आप को गाय पालने का बड़ा शौक था । स्वयं ग्वालियर जा कर बड़ी-बड़ी गायें खरीद कर लाया करते थे । वहां की गायें काफी दूध देती है । अच्छी गाय दस-पन्द्रह सेर दूध देती है । ये गायें बड़ी सीधी भी होती है । दूध दोहन करते समय उन की टागें बांधने की आवश्यकता नहीं होती और जब जिस का जी चाहे बिना बच्चे के दूध दोहन कर सकता है । बचपन में मैं बहुधा जाकर गाय के थन में मुंह लगा कर दूध पिया करता था । वास्तव में वहां की गायें दर्शनीय होती हैं ।

दादा जी मुझे खूब दूध पिलाया करते थे । आप को अठारह गोटी बधिया बग्धा का खेल खेलने का बड़ा शौक था । सायंकाल के समय नित्य शिव-मन्दिर में जाकर दो घण्टा तक परमात्मा का भजन किया करते थे । आप का लगभग पचपन वर्ष की आयु में स्वर्गारोहण हुआ ।

बाल्यकाल से ही पिता जी मेरी शिक्षा का अधिक ध्यान रखते थे और जरा सी भूल करने पर बहुत पीटते थे । मुझे अब भी भलीभांति स्मरण है कि जब मैं नागरी के अक्षर लिखना सीख रहा था तो मुझे लिखना न आया मैंने बहुत प्रयत्न किया पर जब पिता जी कचहरी से आकर मुझसे लिखवाया मैं न लिख सका । उन्हें मालूम हो गया कि मैं खेलने चला गया था । इस पर उन्होंने मुझे बन्दूक के लोहे के गज से इतना पीटा कि गज टेढ़ा पड़ गया । मैं भाग कर दादा जी के पास चला गया तब जान बचाई ।

मैं छोटेपन से ही बहुत उद्दण्ड था । पिता जी के पर्याप्त शासन रखने पर भी बहुत उद्दण्डता करता था । एक समय किसी के बाग में जाकर आंडू के वृक्षों में सब आंडू तोड़ डाले माली पीछे दौड़ा किन्तु मैं उसके हाथ न आया । माली ने सब आंडू पिता जी के सामने ला रखे । उस दिन पिता जी ने मूझे इतना पीटा कि मैं दो दिन तक उठ न सका । इसी प्रकार खूब पिटता था, किन्तु उद्दण्डता अवश्य करता था । शायद उस बचपन की मार से ही मेरा यह शरीर बहुत कठोर तथा सहनशील बन गया है !

मेरी कुमारावस्था

जब मैं उर्दू चौथा दर्जा का पास कर के पांचवें में आया उस समय मेरी अवस्था लगभग चौदह वर्ष की होगी । इसी बीच मुझे पिताजी की सन्दूक से रूपये-पैसे चुराने की आदत पड़ गई थी । इन पैसों से उपन्यास खरीद कर खूब पढ़ता । पुस्तक विक्रेता महाशय पिता जी की जान पहचान के थे । उन्होंने पिता जी से मेरी शिकायत की । अब मेरी कुछ जांच होने लगी । मैंने उस महाशय के यहां से किताबें खरीदना ही छोड़ दिया । मुझमें दो एक खराब आदतें भी पड़ गईं । मैं सिगरेट पीने लगा । कभी-कभी भंग भी जमा लेता था । कुमारावस्था में स्वतन्त्रता पूर्वक पैसे का हाथ में आ जाना और उर्दू के प्रेमरस पूर्ण उपन्यासों तथा गजलों की पुस्तकों ने आचरण पर भी अपना कुप्रभाव दिखाना आरम्भ कर दिया । घुन लगना अभी आरम्भ ही हुआ था कि परमात्मा ने मेरी बड़ी सहायता की ।

मैं एक रोज भंग पीकर पिता जी की सन्दूकची में से रूपये निकालने लगा । नशे की हालत में होश ठीक न रहने के कारण सन्दूकची खटक गई । माता जी को सन्देह हुआ । उन्होंने मुझे पकड़ लिया । चाबी पकड़ी गई । मेरे सन्दूक की तलाशी ली गई, बहुत से रूपये निकले और सारा भेद खुल गया । मेरी किताबों में अनेक उपन्यासादि पाये गये जो उसी समय फाड़ डाले गये ।

परमात्मा की कृपा से मेरी चोरी पकड़ ली गई नही तो दो चार वर्ष में न दीन का रहता न दुनिया का । इसके बाद भी मैंने बहुत घातें लगाईं किन्तु पिता जी ने संदूकची का ताला बदल दिया मेरी कोई चाल न चल सकी । अब जब कभी मौका मिल जाता तो माता जी के रूपयों पर हाथ फेर देता था । इसी प्रकार की कुटेवों के कारण दो साल बाद उर्दू मिडिल की परीक्षा में उत्तीर्ण न हो सका तब मैंने अंगरेजी पढ़ने की इच्छा प्रकट की । पिताजी मुझे अंग्रेजी पढ़ाना नहीं चाहते थे और किसी व्यवसाय में लगाना चाहते थे, किन्तु माता जी की कृपा से मैं अंग्रेजी पढ़ने भेजा गया ।

दूसरे वर्ष जब मैं उर्दू मिडिल की परीक्षा में फेल हुआ उसी समय पड़ोस के देव मन्दिर में जिसकी दीवार मेरे मकान से मिली थी एक पुजारी जी आ गये आप बड़े ही सत्चरित्र व्यक्ति थे । मैं आपके पास उठने-बैठने लगा ।

Advertisements

1 टिप्पणी »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. Jis vyakti ki pristhbhumi hi itne kashton se ghiri hui ho vatan ke liye vo bhala kashton se kya ghabrata!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: