पिताजी का ग्राहस्थ और मेरा जन्म

जनवरी 13, 2009 को 10:51 अपराह्न | Posted in आत्म-चरित, आत्मकथा, खण्ड-1 | 1 टिप्पणी
टैग: , , , , , , , , , , , , , , ,

अब तक आपने पढ़ा…

… दादी जी आदर्श माता थी, उन्होंने इस प्रकार के प्रलोभनों की किन्चित मात्र भी परवा न की और अपने बच्चों का किसी न किसी प्रकार पालन करती रहीं । मेहनत मजदूरी तथा ब्राम्हण वृत्ति द्वारा कुछ धन एकत्रित हुआ । कुछ महानुभावों के कहने से पिता जी के किसी पाठाशाला में शिक्षा पाने का प्रबन्ध कर दिया गया । श्री दादा जी ने भी कुछ प्रयत्न किया, उनका वेतन भी बढ़ गया और वे 7द्ध मासिक पाने लगे । इसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़, पैसे तथा दुवन्नी, चवन्नी इत्यादि बेचने की दूकान की । पांच सात आने रोज पैदा होने लगे । जो दुर्दिन आये थे, प्रयत्न तथा साहस से दूर होने लगे । इसका सब श्रेय श्री दादी जी को ही है ।

अब आगे …

जिस साहस तथा धैर्य से उन्होंने काम लिया वह वास्तव में अशिक्षित ग्रामीण महिला की क्या सामर्थ्य है कि वह नितान्त अपरिचित स्थान में जा कर मेहनत मजदूरी करके अपना तथा अपने बच्चों का पेट पालन करते हुए उन को शिक्षित बनावे और फिर ऐसी परिस्थियों में जब कि उसने कभी अपने जीवन में घर से बाहर पैर न रखा हो ओर जो ऐसे कट्टर देश की रहने वाली हो कि जहां पर प्रत्येक हिन्दू प्रथा का पूर्णतया पालन किया जाता हो । जहां के निवासी अपनी प्रथाओं की रक्षा के लिये प्राणों की किन्चित मात्र भी चिन्ता नहीं करते हों । किसी ब्राम्हण, क्षत्री या वैश्य की कुल वधू का क्या साहस जो डेढ़ हाथ का घूंघट निकाले बिना एक घर से दूसरे घर चली जावें ।

शूद्र जाति की वधूओं के लिये भी यही नियम है कि वे रास्तें में बिना घूंघट निकाले न जावें । शूद्रों का पहनावा ही अलग है, ताकि उन्हें देख कर सही दूर से पहिचान लिया जावे कि यह किसी नीच जाति की स्त्री है । ये प्रथायें इतनी प्रचलित है कि उन्होंने अत्याचार का रूप धारण कर लिया है । एक समय किसी चमार वधू जो अंग्रेजी राज्य से विवाह करके के गई थी, कुल प्रथानुसार जमींदार के घर में पैर छूने के लिये गई । वह पैर में बिछवे नूपुर पहने हुई थी और सब पहनावा चमारों का पहने थी ।  जमींदार महोदय की निगाह उस के पैरों पर पड़ी । पूछने पर मालूम हुआ कि चमार की बहू है । जमींदार साहब जूता पहन कर आये और उस के पैरों पर खड़े हो कर इस जोर से दबाया कि उसकी उंगलियां कट गईं । उन्होंने कहा कि यदि चमारों की बहुयें बिछुवी पहनेंगी तो उंची जाति के घर की स्त्रियां क्या पहनेगी ?  नितान्त अशिक्षित तथा मूर्ख है, किन्तु जाति अभिमान में चूर रहा करते  हैं । गरीब से गरीब अशिक्षित ब्राम्हण या क्षत्रिय चाहे वह किसी आयु का हो यदि  शूद्र जाति की बस्ती से गुजरे तो चाहे कितना ही धनी या वृद्ध कोई  शूद्र क्यों न हो उस को उठ कर पालागन या जुहार करनी ही पड़ेगी । यदि ऐसा न करें तो उसी समय वह ब्राम्हण या क्षत्रीय उसे जूतों से मार सकता है और सब उस शूद्र का ही दोष बता कर उसका तिरस्कार करेंगे ।

यदि किसी कन्या या बहू पर व्यभिचारिणी होने का सन्देह किया जावे तो उसे बिना किसी विचार के मार चम्बल में प्रवाहित कर दिया जाता है । इसी प्रकार यदि किसी विधवा पर व्यभिचार या किसी प्रकार आचरण भ्रष्ट होने का दो्ष लगाया जावें तो चाहे वह गर्भवती ही क्यों न हो उसे तुरन्त ही काट कर चम्बल में पहुंचा दें और किसी को कानों कान भी खबर न होने दें । वहां के मनुष्य भी सदाचारी होते हैं वे सब की बहू-बेटी को अपनी बहू-बेटी समझते हैं । स्त्रियों की मान मर्यादा की रक्षा के लिये प्राण देने में कोई चिन्ता नहीं करते । इस प्रकार के देश में विवाहित हो कर सब प्रकार की प्रथाओं को देखते हुए भी इतना साहस करना यह दादी जी का ही काम था ।

परमात्मा की दया से दुर्दिन समाप्त हुए । पिताजी कुछ शिक्षा पा गये और एक मकान भी श्री दादाजी ने खरीद लिया । दरवाजे-दरवाजे भटकने वाले कुटुम्ब को शान्ति पूर्वक बैठने का स्थान मिल गया और फिर श्री पिताजी के विवाह करने का विचार हुआ । दादी जी, दादाजी तथा पिता जी के साथ अपने मायके गयी । वहीं पिता जी का विवाह कर दिया । वहां दो चार मास रहकर सब लोग वधू को विदा कराके साथ लिवा लाये ।

विवाह हो जाने के पश्चात पिताजी म्यूनिसिपैलिटी में 15 रू० मासिक वेतन पर नौकर हो गये । उन्होंने कोई बड़ी शिक्षा प्राप्त न की थी । पिताजी को यह नौकरी पसन्द न आई । उन्होंने एक दो साल के बाद नौकरी छोड़ कर स्वतन्त्र व्यवसाय आरम्भ करने का प्रयत्न किया और कचहरी में सरकारी स्टाम्प बेचने लगे । आप के जीवन का अधिक भाग इसी व्यवसाय में व्यतीत हुआ । साधारण श्रेणी का गृहस्थ बन कर उन्होंने इसी व्यवसाय द्वारा अपनी सन्तानों की शिक्षा दी, अपने कुटुम्ब का पालन किया और अपने मुहल्ले के गण्यमान्य व्यक्तियों में गिने जाने लगे । आप रूपये का लेन-देन भी करते थे । आपने तीन बैल गाड़ियां भी बनाई थी जो किराये पर चला करती थीं । पिता जी का व्यायाम से प्रेम था आप का शरीर बड़ा सुदृढ़ और सुडौल था । आप नियम पूर्वक अखाड़े में कुश्ती लड़ा करते थे ।

पिता जी के गृह में एक पुत्र उत्पन्न हुआ, किन्तु वह मर गया । उसके एक साल बाद इस शहीदाने वतन लेखक राम प्रसाद ने श्री पिताजी के गृह में ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष 11 सम्वत् 1954 विक्रमी को जन्म लिया । बड़े प्रयत्नों से मानता मान कर अनेकों गंडे ताबीज तथा कवचों द्वारा श्री दादी जी ने इस शरीर की रक्षा का प्रयत्न किया । स्यात् बालकों का रोग गृह में प्रवेश कर गया था । अतएव जन्म लेने के एक या दो मास पश्चात ही मेरे शरीर की अवस्था भी पहले बालक वैसी होने लगी थी । किसी ने बताया कि सफेद खरगोश को मेरे शरीर पर से घुमा कर जमीन पर छोड़ दिया जावे, यदि बीमारी होगी तो खरगोश तुरन्त मर जावेगा । कहते हैं कि हुआ भी ऐसा ही । एक सफ़ेद खरगो्श मेरे् शरीर पर से उतार कर जैसे ही जमींन पर छोड़ा गया, वैसे ही उसने तीन चार चक्कर काटे और मर गया । मेरे विचार में किसी अंश में यह सम्भव भी है क्योंकि ऎसी जानकारी है ..

.. कि  औ्षधि तीन प्रकार की होती है  1- दैविक, 2- मानुषिक, 3- पैशाचिक पैशाचिक औषधियों में अनेक प्रकार के पशु या पक्षियों के मांस अथवा रूधिर का व्यवहार होता है, जिन का उपयोग वैद्यक के ग्रन्थों में पाया जाता है । इनमें से एक प्रयोग बड़ा ही कौतुहलोत्पादक तथा आश्चर्यजनक है  कि जिस बच्चे को जमोखे सूखा की बीमारी हो गई हो यदि उसके सामने चिमगादड़ को चीर कर के लाया जावे तो एक दो मास का बालक चिमगादड़ को पकड़ कर के उसका खून चूस लेगा और बीमारी जाती रहेगी । यह बड़ी उपयोगी औषधि है और एक महात्मा की बतलाई हुई है ।

 

Advertisements

1 टिप्पणी »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: