शिवा ने मां का बन्धन खोला

जनवरी 7, 2009 को 8:28 अपराह्न | आत्मकथा, काकोरी के शहीद, काकोरी षड़यंत्र, रंग दे बसंती चोला, वन्दे मातरम, सरफ़रोशी की तमन्ना में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ
टैग: , , , , , ,

अब तक आपने पढ़ा … 

जेल के अन्दर अभियुक्तों ने प्रायः सभी त्योहार बड़े उत्साह से मनाए । सरस्वती पूजा, बसन्त पंचमी और होली अभियुक्तों की खास तौर से बहुत अच्छी हुई । बसन्त के दिन जब सबों ने मिल कर यह गाना गाया तो सबों के हृदय में देशभक्ति की हिलोरें उठने लगी :
मेरा रंग दे बसंती चोला
इस रंग में रंग के शिवा ने मां का बन्धन खोला ।
यही रंग हल्दीघाटी में खुल कर के था खेला ।
नव बसन्त में भारत के हित वीरों का यह मेला ।
मेरा रंग दे बसन्ती चोला ।
  अब आगे … . ..

इनके त्यौहारों में कितनी अपूर्वता थी । बसन्त और होली का मूल्य और महत्व ये ही अनुभव कर सके होंगे । आनन्द का दिवस था । नौकरशाही के हाथों हमारा भविष्य अन्धकार में तो निश्चित ही है । हमारी रची हुई सभी कविताओं का जिक्र करना यहां पर असम्भव प्रतीत होता है, कारण वे सभी रचनायें जेल के बाहर तक न पहुंच सकेंगी । हां कुछ गाने जो अभियुक्त कचहरी जाते समय गाया करते थें, वह इस प्रकार है :

एक :
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजुये कातिल में हैं।
रहबरे राहे मुहब्बत रह न जाना राह में,
लज्ज़ितें सहरान वर्दी दूरिये मंजिल में हैं।
वक़्त आने दे बता देगें तुझे ऐ आसमां,
हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में हैं।
आज फिर मकतल में क़ातिल कह रहा है बारबार,
कया तमन्नायें षहादत भी किसी के दिल में हैं।
ऎ शहीदे मुल्को-मिल्लत ! मैं तेरे उपर निसार,
अब तेरी हिम्मत की चरचा गै़र की महफिल में है ।
अब न अगले बलबले है और न अरमानों की भीड़,
एक मिट जाने की हसरत, अब दिले बिस्मिल में हैं ।

2

दो :
भारत न रह सकेगा,     हरगिज़ गुलामखाना ।
आजाद होगा होगा,       आता है वह ज़माना।।
खूं खौलने लगा है,      हिन्दोस्तानियों का ।
कर देंगे जा़लिमों का,    हम बन्द जुल्म ढाना ।।
कौमी तिरंगें झंडे,        पर जां निसार अपनी ।
हिन्दू, मसीह, मुस्लिम,  गाते है यह तराना ।।
अब भेड़ और बकरी,    बन कर न हम रहेंगे ।
इस पस्तहिम्मती का,   न होगा कहीं ठिकाना ।।
परवाह अब किसे है,    जेल ओ दमन की प्यारो ।
एक खेल हो रहा है,    फांसी पे झूल जाना ।।
भारत वतन हमारा,     भारत के हम हैं बच्चे ।
वतन के वास्ते हैं,      मंजूर सर कटाना ।।

2

अन्य गीतों का हम यहां पर स्थानाभाव के कारण वर्णन करने में असमर्थ है,कुछ जिक्र किये देते हैं.. ..

1.  अपने ही हाथों से सर कटाना है हमें ।
     मादरे हिन्द को सर भेंट चढ़ाना है हमें ।।

2.  एक दिन होगा कि हम फांसी चढ़ायें जायेंगे ।
     नौ जवानों देख लो हम फिर मिलने आयेंगे ।।
3. 
हमने इस राज्य में आराम न कोई देखा ।
     देखा जो ग़रीबों को तो रोते देखा ।। 

आखिर में मुकद्दमों की सुनवाई खत्म हुई । 6 अप्रैल सन् 1927 को सेशन जज मामले का फैसला सुनाने को थे । उस दिन पुलिस का पहरा सब दिनों से कहीं अधिक कड़ा था । बहुत थोड़े व्यक्ति भीतर पहुंच पाये थे । करीब 11 बजे अभियुक्त अपनी मस्तानी अदा से ‘ सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,’  गाते हुए मोटर लारियों से उतरे । अदालत में घुसते ही वन्देमातरम् के नाद से उन्होंने भवन को गुंजा दिया । फैसला सुनने के लिए सब शांति भाव से खड़े हो गये । मस्तकों पर रोली का तिलक लगा था । अदालत के चारों ओर पुलिस और सवार गश्त लगा रहे थे । जनता के बाहर खड़े होने से ही जज महोदय का दिल धड़कने लगता था । उस दिन पं0 जगत नारायण जी कचहरी नहीं आये । अन्य सरकारी वकील भी मुंह छिपाकर चल दिये । अभियुक्तों के मुख पर किसी प्रकार का विकार न था, प्रत्युत उनमें मुस्कराहट थी । फ़ैसला बहुत लम्बा था । फ़ैसले में ब्रिटिश सरकार का तख्त उलट देने के व्यापक षड़यन्त्र का जिक्र करने के बाद प्रत्येक अभियुक्त पर लगाये गये भिन्न-भिन्न आरोपों पर विचार  किया गया था और तदनुसार सबकों सजायें सुनाई जाने लगीं । अभियुक्तों के सम्बन्ध में जज महोदय ने स्पष्टतया कहा कि वे अपने व्यक्तिगत लाभ के लिये इस कार्य में प्रवृत नहीं हुए । पर किसी अभियुक्त ने न तो पश्चाताप ही किया और न इस बात का बचन दिया कि भविष्य में इस प्रकार के आन्दोलनों में भाग न लेंगे । सेशन जज की यह इच्छा थी कि यदि अभियुक्त ऐसी कुछ बातें कह दें, तो उनके साथ रियायत की जा सकती है । किन्तु अभियुक्तों के लिये ऐसा करना अपने ध्येय से डिग जाना था । फिर क्या था, सजायें सुनाई जाने लगी । अभियुक्तों पर 121 अ, 120 ब और 396 धारायें लगाई गई थीं । इनके अनुसार निम्नलिखित सज़ायें उन्हें मिली … जारी है

Advertisements

3 टिप्पणियाँ »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. शत शत नमन
    कवि , कविता और अमर शहीदोँ को और भारत माता को भी –
    प्रस्तुति – रोमाँचक – अभूतपूर्व -ह्र्दयग्राही
    – लावण्या

  2. bhaut accha sir..likhte rahiye….

  3. भारत न रह सकेगा, हरगिज़ गुलामखाना ।
    आजाद होगा होगा, आता है वह ज़माना।।
    अपने ही हाथों से सर कटाना है हमें ।
    मादरे हिन्द को सर भेंट चढ़ाना है हमें ।।
    Unke josh aur jajbe ko aaj ki pidhi mein bhi jagana hoga.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: